Social

Recent Posts

Random Post

Name

your name

Email *

Your Email

Message *

your message

Random Post

Pages

Pages

Recent Comments

Recent Posts

Popular Posts


सरकारी टेलीकॉम कंपनी BSNL भी अब अपने यूजर्स के लिए हाई स्पीड इंटरनेट की सौगात लेकर आयी है। कंपनी ने अपनी यह सेवा लॉन्च कर दी है और इसे भारत फाइबर हाई स्पीड डाटा फाइबर टु द होम (FTTH) का नाम दिया है। बीएसएनएल के हाई स्पीड फाइबर ब्रॉडबैंड सेवाओं के बारे में काफी समय से चर्चाएं चल रहीं थी। अब आखिरकार कंपनी ने अपनी इस बहुप्रतिक्षित सेवा को लॉन्च कर दिया है। जियो पहले ही अपनी जियो गीगा फाइबर सेवाओं का ऐलान कर चुका है। इस तरह हाई स्पीड ब्रॉडबैंड के क्षेत्र में जियो और बीएसएनएल के बीच प्रतिद्वंदिता रहेगी।

बीएसएनएल के अधिकारी विवेक बंजाल ने कंपनी के हाई स्पीड ब्रॉडबैंड के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि भारत फाइबर की मदद से अब यूजर्स अपने घर, ऑफिस और इंटरटेनमेंट जैसी जरुरतों को आसानी से पूरा कर सकेंगे। बंजाल का कहना है कि नए ग्राहक हाई स्पीड इंटरनेट की मांग करते हैं, जिसे देखते हुए इस सेवा की शुरुआत की गई है। बंजाल के अनुसार, भारत फाइबर उपभोक्ताओं की ज्यादा और तेज स्पीड डाटा की जरुरतों को पूरा कर सकेगा। बीएसएनएल की इस सेवा की जो सबसे खास बात है, वो है इसकी कीमत। टेलीकॉमटॉक.इन्फो की एक खबर के अनुसार, भारत फाइबर सेवा के तहत ग्राहकों को डाटा और वाई-फाई कनेक्शन मिलेगा, जो कि पूरे परिवार की जरुरतों को पूरा कर सकेगा। सब्सक्राइबर्स भारत फाइबर सेवा के तहत एक दिन में 35जीबी डाटा का इस्तेमाल कर सकेंगे। इसके लिए सब्सक्राइबर्स को एक जीबी डाटा के लिए सिर्फ 1.1 रुपए का भुगतान करना होगा।

बीएसएनएल ने आधिकारिक वेबसाइट पर भारत फाइबर के लिए बुकिंग शुरु भी कर दी है। बीएसएनएल की भारत फाइबर सेवा, केन्द्र की डिजिटल इंडिया योजना को ध्यान में रखते हुए शुरु की गई है, जिसकी मदद से देश के अधिकतर घरों में इंटरनेट की सुलभ पहुंच हो सकेगी। बीएसएनएल इसके अलावा ग्राहकों के साथ पूरी पार्दर्शिता बरतने पर ध्यान केन्द्रित कर रही है। बता दें कि बीएसएनएल अपनी सिक्योरिटी और नियामक संबंधी जानकारी अपने ग्राहकों के साथ भी शेयर करेगी। साथ ही कंपनी कंज्यूमर सर्विस पर भी ध्यान देना शुरु कर दिया है, जिसका असर भी दिखाई देने लगा है। उल्लेखनीय है कि बीएसएनएल की भारत नेट आदि सेवाओं से अब तक देश की लगभग 1.25 लाख ग्राम पंचायतें जुड़ चुकी हैं।

Post a Comment