हरीओम माली - जीरन,

जीरन- _फिल्टर प्लांट के नाम पर जीरन नगर की जनता को पिलाए जा रहे तालाब के बदबूदार पानी को लेकर लोगो का आक्रोश थमने का नाम नही ले रहा है। वही इस मामले को लेकर रहवासी स्थानीय पार्षदों को घेर रहे है। बावजूद इसके नगर परिषद अध्यक्ष सिमा राजोरा ओर सीएमओ नीता जैन के कानों में जूं तक नही रेंग रही है। जब से फिल्टर प्लांट से तालाब का पानी सप्लाई शुरू हुआ तब से लेकर प्रतिदिन किसी न किसी बात को लेकर रहवासियों का विरोध देखा जा रहा है। रविवार को  वार्ड क्रमांक 6 के राजोरा मोहल्ला के रहवासियों ने वार्ड पार्षद फ़ातेमा बोहरा के पति असगर अली बोहरा का घेराव कर उन्हें अपनी समस्या से अवगत करवाया। रहवासियों ने बताया कि पिछले सप्ताह भर से नल का समय बदल कर सुबह 4 बजे कर दिया गया है। ऐसी ठिठुरते ठंड में पानी भरने के लिए सुबह 4 बजे उठना पड़ रहा है। 

इधर रविवार को ही फ़िल्टर प्लांट की फेल हो चुकी पाइपलाइन में जैसे ही पानी सप्लाई देने की कोशिश की गई वैसे ही नया बस स्टैंड पर हॉस्पिटल चौराहे के पास पाइपलाइन फूट पड़ी। जिसके बाद पूरे रास्ते में पानी फेल गया। नगर पंचायत के कर्मचारियों ने जब फूटी पाइपलाइन के लिए खुदाई की तो ठेकेदार की लापरवाही को रहवासियों ने अपनी आंखों से देखा।

नगर परिषद सीएमओ और अध्यक्ष की हठधर्मिता पर अब तक होठ सीए बैठे भाजपा पार्षदों एंव भाजपा नेताओं की चुप्पी पर सवाल खड़े हो रहे है। इसी बीच उपाध्यक्ष मुकेश राव तावरे ने एक बयान के साथ  जीरन वासियों में उम्मीद की किरण जगा दी है। फिल्टर प्लांट के बदबूदार पानी पीने से इंकार करने के बाद भी जबरन तालाब पानी के सप्लाई ओर घोर अनियमितता पर यह कहकर हलचल मचा दी है कि वे अभी पारिवारिक विवाह समारोह में होने के कारण बाहर है और 29 जनवरी को जीरन आने के बाद नगर परिषद के अधिकारियों से बात करेंगे। ओर हर हाल में जनता के साथ खड़े रहेंगे। उपाध्यक्ष मुकेश राव तावरे के मैदान मे आने के बाद माना जा रहा है कि जल्द ही जीरन की जनता को फिल्टर प्लांट के नाम पर तालाब का बदबूदार पानी नही पीना पड़ेगा।_

Post a Comment