*नीमच। मंदसौर नपाध्यक्ष बंधवार मर्डर मिस्ट्री में नित नए खुलासे सामने आ रहे है। पहले सुनने में आया था किसी प्रोपर्टी की जद्दोजहद में आरोपी ने बंधवार को गोलियां दाग दी है, फिर सुनने में आया कि मामला पैसो के लेनदेन से जुड़ा हुआ था। लेकिन आज पत्रकारवार्ता में आरोपी ने खुलकर बयान दिए, बंधवार को आखिर क्यों मौत के घाट उतारा उसका खुलासा किया। आरोपी मनीष ने मीडिया के सामने अपने बयानों में बताया कि वो नपाध्यक्ष बंधवार से प्रताणित था, चुनाव में उसने करीब 1.5 लाख रुपये बंधवार के लिए खर्च किये थे। पार्टी से जुड़े होने के नाते बंधवार के नपाध्यक्ष बनने पर आरोपी मनीष की भी कुछ आस थी। लेकिन बाद में बंधवार कसमे वादे खाकर मुकर गए, मनीष बैरागी की माँ की मौत होने पर अध्यक्ष से चुनाव में किये खर्च पैसो की मांग की थी और उन्हें चेतावनी भी दी थी, अगर आज पैसा मिलता है तो ठीक वरना मौत के घाट उतारने में कोई कसर नही छोड़ेगा। प्रेसवार्ता में आरोपी द्वारा दिये गए बयानों के बाद सनसनी फैल गई है। नपाध्यक्ष को मारने का प्लान पहले ही तय हो चुका था, ओर मौका देखते ही आरोपी ने बीपीएल चौराहे पर बंधवार से मुलाकात कर उन्हें गोली दाग दी। नपाध्यक्ष की मौत के बाद शहर में मातम का माहौल है, आज भी बाजार में रौनक सिमटी दिखाई दी। आरोपी के गिरफ्तार होने पर बेचैन सवालो के सुलगते जवाब सामने आए है।* 

*वही आरोपी मनीष ने मीडिया के सामने अपने बयानों में यह भी खुलकर कहा है कि दादा ने हमेशा से उसे दगा देते रहे, गुमटी के सामने भी किसी अन्य की गुमटी तानने में उनका हाथ रहा। करीब 3.50 लाख का नुकसान उसे व्यापार में पहुचा, लोन लेकर व्यापार शुरू किया था, बीच मे बंधवार ने साथ छोड़ दिया और सबका भला किया। उसी नाराजगी के चलते खफा मनीष ने बंधवार को बीच चौराहे मौत के घाट उतारने का प्लान बनाया, नाइन एम एम की पिस्टल से पहले पेट मे फायर किया फिर दो फायर माथे पर। जिससे बंधवार की मौके पर ही मौत हो गई।*

Post a Comment