। आज देर शाम कलेक्टोरेट चौराहे पर मंडी अधिकारियों ने कोठारी बस पर दबिश देकर तोड़बट्टा करने की सूचना प्राप्त हुई है। मोके पर कोठारी बस में आपत्तिजनक माल भरा होने की बात सामने आई है। अफीम या डोडाचूरा भी भरा हो सकता था। करवाई में मंडी अधिकारियों की सांठगांठ खुलेरूप से उजागर हुई है। पहले वर्दी का रोब दिखाकर बस को रोका फिर कार्रवाई के नाम पर चमकोमाईसीन दी। दो तीन कागज भी रंग डाले। कागजो के मुताबिक बस में भरा अवैध माल मंडी व्यापारी रमेश पीयूष ओर विशाल राजमल का था। कुछ देर की कहा सुनी के बाद अवैध माल वेध हो गया, बस को रवानगी की परमिशन मिल गई।इस पूरे तोड़बट्टे के कार्यक्रम में मंडी इंस्पेक्टर ओर भगतसिंह चौहान मंडी निरीक्षक की भूमिका संदिग्ध रही है।

क्योंकि मंडी निरीक्षक ने एसडीएम के आदेश पर करवाई होना बताई, फिर कोठारी बस में बिना जांच के ही मनघडंत कहानी की तरह धनिया, कलौंजी, मैथी होना बताया गया। लेकिन सूत्रों के मुताबिक बस में आपत्तिजनक माल भरा हुआ था, ओर मौका ए वारदात से उसे न तो संबधित थाने ले जाया गया न ही मंडी अधिकारियों ने बस से माल को मंडी अभिरक्षा में लिया। सारे आम 50 का तोड़बट्टा होने की सूचना मिली ही, ओर ये भी बात सामने आई है कि जब मंडी अधिकारियों को एसडीएम के आदेश पर तैनात किया गया था तो कोठारी से तोड़बट्टा करने के बाद ही क्यों पॉइन्ट से रवाना हो गए, क्या मंडी अधिकारी एक मात्र कोठारी बस को रुकवाने का आदेश पर तैनात थे, या कोठारी को अवैध परिवहन करने पर भी छूट देने के लिए। अभी तक तो 50 में तोड़बट्टा होने की सुर्खियां बनी हुई है। जिसमे मंडी की दो फर्मो का अवैध माल शामिल था।

Post a Comment