*नीमच। कृषि उपज मंडी का चर्चित दो नम्बरी करोबारी इन दिनो अपने दो नम्बर के व्यापार को लेकर फिर सुर्खियांे में बना हुआ है। बिते अक्टूबर माह में इसके बघाना स्थित गोदाम पर एसडीएम की टीम ने दबीश देकर इसके गोदाम को सील किया था। मंडी व्यपारी जाबीर बोहरा सड़ी गली उपज खरीदकर उस पर भट्टीयों के माध्यम से जहरीली पाॅशिल चढ़ाता है, जो कि जन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इससे पूर्व मंे करीब एक वर्ष पहले इसके गोदाम पर छापामार कार्रवाई हुई थी, लेकिन फिर भी इस दो नम्बरी व्यपारी को अकल नही आई है। वर्तमान मंे बघाना श्मसान स्थित गोदाम पर जाबीर बोहरा जहरीली भट्टीयो संचालित कर रहा है। जहां सड़े गले धनिये को चकाचक कर अन्य प्रांतो मंे सप्लाय कर रहा है।*

*कृषि उपज को चमकदार और उच्च क्वालिटी का बनाने के लिए व्यापारी जिस जहरीली प्रक्रिया का प्रयोग करते है वह आमजन के स्वास्थ्य को किस प्रकार हानि पहुंचाते है। यह बात पिछले दिनो सामने आई, जब धनियां व अन्य कृषि उपज की फर्म जहां जहरीली भट्टीयां भी लगाई जाती है। ऐसे संस्थानो के आसपास के रहवासी दहशत में अपना जीवन काट रहे है। ऐसा ही एक मामला पिछले दिनो देखने में आया था, जिसकी शिकायत किसी जागरूक व्यक्ति ने की थी, शिकायत मंे उल्लेख किया गया था, मंडी व्यापारी जाबिर बोहरा द्वारा जहरीली भट्टीयों को संचालित किया जा रहा है। भट्टीयों के माध्यम से धनिये पर पाॅलिश चढ़ाई जा रही है। जो कि जन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। बात यहां ही नही थमती हकीकत यह भी है कि रहवासी ईलाको के आसपास संचालित होने वाले इस जहरीले कारोबार के चलते आमजन दहशत मंे जी रहे है। करीब 24 घंटे बाद जब सल्फर से पकाया गया धनियां व अन्य कृषि उपज की भट्टीयों को खोला जाता है तो यहां से निकलने वाली विषेली गैस वातावरण में घुलकर उसे दुषित बना रही है। जिसके कारण आसपास के लोगो का सांस लेना भी दुष्वार हो जाता है और जहर का व्यापार करने वाला मंडी कारोबारी जाबिर बोहरा अपने जहरीले कारोबार को बेखौफ होकर लम्बे समय से करते आ रहा है।*

Post a Comment