नीमच। जिले में भ्रष्टाचार और अवैध वसूली के कारनामे तो कई बार सुने है, लेकिन जिले में एक ऐसा भी अफसर है जो दिन-दुगनी रात-चैगनी तरक्की के पुलिंदे बांधने में कामयाब हो रहा है। वह अफसर और कही नही बल्कि खाद्य एवं औषधि विभाग के निरीक्षक राजू सोलंकी है। जो पिछले कई वर्षो से नीमच में अंगत का पैर जमाए बैठे है। सरकार के बदल जाने पर भी सोलंकी की कुर्सी नही बदली। पिछले करीब 7 सालो से राजू सोलंकी खाद्य एवं औषधि विभाग के निरीक्षक के रूप में पदस्थ है और इन्ही सात सालो में इन्होने अर्श से फर्श तक का सफर भी तय किया। रियायशी अंदाज इस बात का प्रमाण माना जा सकता है कि कही न कही सोलंकी के हाथ भी भ्रष्टाचार में रंगे हुए है। तभी तो मंडी व्यापारियो को खुली छूट दे रखी है। खुलेआम अवैध भट्टीया और खाद्य उपजो में मिलावट का खेल बेतहाशा सोलंकी की अगुवाई में पनप रहा है। ऐसे में अब आमसभा के चुनाव नजदीक है और जिले में ऐसे ही भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाले अधिकारियो के तबादले की आस बंधी हुई है। उल्लेखनीय है कि शासन द्वारा अधिकतम 3 वर्ष के कार्यकाल में किसी भी शासकीय कर्मचारी या अधिकारी एक जिले में पदस्थ रहने के बाद स्थानांतरण होना रहता है। लेकिन यहां विडम्बना ही मानी जाए कि खाद्य एवं औषधि विभाग के अधिकारी राजू सोलंकी सरकार बदल गई लेकिन ये अभी तक अंगत का पैर जमाए जिले में पदस्थ है। ऐसे में सूत्रों का कहना है कि आमसभा चुनाव से पूर्व ही सोलंकी के स्थांनातरण होने की संभावनाएं है।


Post a Comment