नीमच। आईपीएल क्रिकेट श्रंखला के शुरू होते ही शहरभर में कुकरमुत्तो की तरह क्रिकेट सटोरियो का मकड़जाल बिछ चुका था। पुलिस से आंख मिचोली खेल रहे इन सटोरियो पर दबिश देना भी आसान नही माना जा रहा था। आधुनिक तकनीकी और हर बार फर्जी सीम के इस्तेमाल से ये सटोरियो क्रिकेट सट्टा लगाने में कामयाब हो रहे थे। लेकिन शहरभर के तमाम सटोरियो में से बड़े सटोरियो पर पुलिस ने निगाहे जमा रखी थी। बिती रात पुलिस ने सायबर सेल की मदद से शहर के तीन नामचीन बड़े सटोरियो को धर—दबोचा है। कार्रवाई में खुलासा हुआ है कि डिब्बे की आवाज कितनी है, सेशन एक पैसे का है, मैने चव्वनी खा ली है, इन तमाम कोड वर्डो में क्रिकेट सट्टा चल रहा था। लेपटॉप, मोबाईल, रिकॉर्डिंग और विडियो फुटेज भी कार्रवाई में बरामद हुए है। वही शहर के नामचीन सटोरियो की लीस्ट भी इन तीनो सटोरियो के मोबाईलो से खंगाली जा चुकी है। जिसमें 8 नाम प्रमुख बताये जा रहे है। तीन सटोरियो की शनिवार रात गिरफ्तारी हो चुकी है। बाकी 5 सटोरियो की गिरफ्तारी होना शेष है।

ब्रजेश जैन और रितेश जैन मुख्य आरोपी

शनिवार रात केंट पुलिस की दबिश में ब्रजेश जैन और रितेश जैन को मुख्य आरोपी बनाया है। इन दोनो सटोरियो के कब्जे से मोबाईल, लेपटॉप, फर्जी सीम कार्ड और कोड वर्ड जब्त हुए है। पुलिस शेष बचे सटोरियो की सरगर्मी से तलाश में जुटी है। 

खबर का असर

आईपीएल क्रिकेट श्रंखला के शुरू होते ही नीमच न्यूट टीम ने प्रमुखता से शहर के तमाम सटोरियो के नाम उजागर किए थे, जिसके फलस्वरूप कल शनिवार अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई को पुलिस ने अंजाम दिया है। जिसमें तीन नामचीन सटोरियो को हिरासत में लेकर दो को नामजद आरोपी बनाया है। वही इन दोनो मुख्य आरोपियो से कड़ी पूछताछ के बाद शहरभर में क्रिकेट सट्टा बुकीयो का खुलासा भी हुआ है। पुलिस उन पर भी अपनी निगाहे जमाए हुए है।

Post a Comment