( रूपेश शक्तावत)


नीमच। पूर्व में जिले से सटा निम्बाहेड़ा नगर सट्टा नगरी के नाम से बड़ा सुर्खियो में छाया रहता था। लेकिन विडम्बना यह है कि अब नीमच भी निम्बाहेड़ा से कम नही आका जा रहा है। जब सरकार बदली मानो सटोरियो को खुली छूट मिल गई है। सन 2013 में पुलिस अधीक्षक टी.अमोंग्ला अय्यर ने एक स्थान पर दबिश देकर सट्टा खेलने वालो के लिए सबब और सही नसिहत देने वाला काम किया था। आधि रात को सटोरियो पर टीम बनाकर कार्रवाई को अंजाम दिया था। जिसमें हरीश पायलेट, झांझरी और बाल्दी जैसे बड़े सटोरियो का तय ठिकाने से केंट थाने तक भरे बाजार से जुलूस निकाला था और तब से नीमच की फिजा में सट्टा रूपी जहर खत्म हो चुका था, लेकिन पिछले कुछ दिनो से नीमच शहर में फिर से तथाकथित सटोरिये सक्रिय हो चुके है। ऐसा लगता है मानो इन सटोरियो को जैसे खुली छूट मिल चुकी है। बिते तीन दिन पूर्व बंगला नम्बर 58 में केंट पुलिस ने दबिश देकर 2 सटोरियो को नामजद किया था, उसके बाद दोनो आरोपियो से कड़ी पूछताछ करने पर हुडको कॉलोनी निवासी सटोरिये पियूष मलेशिया का नाम सामने आया था, पुलिस उसी रात तुरंत पियूष के घर पर दबिश देने पहुंची और उसे वहां से गिरफ्तार कर कड़ी पूछताछ के लिए 2 रात कस्टडी की हवां खिलाई। सूत्रो के मुताबिक जानकारी मिली है कि पियूष मलेशिया से तोडबट्टा कर रवानगी दी गई। जबकि पियूष मलेशिया पुराना सटोरिया है, पूर्व में भी इस पर कई बार सट्टा एक्ट में कार्रवाई हो चुकी है। बावजूद ऐसे आरोपी को 2 रात में ही रवाना करना कही न कही पुलिस पर भी सवालिया निशान लगा है। और यहां तक ही बाजार में तो यह भी चर्चा है कि पुलिस ने छोटी मछलियो को पकडकर बडे मगरमछो को खुली छूट दी है। सूत्रो के मुताबिक हरीश पायलेट, नितीन झांझरी, बाल्दी, पप्पू सोनी, पवन खण्डेलवाल, मोहीत मालानी, मोनू देव मुरार, जीजा, महावीर जैन, हिमांशु सुथार, योगेश मौर्य, सुमीत राठौर, जावेद भाई, बाबा रॉबर्ट, अमीत शिकंजी, कारा, जाकिर भाई, चंदी, पिंकू, नितेश जैन, विनोद अग्रवाल, तुषार लालका सहित अन्य कई नामचीन सटोरिये शहर को सट्टा नगरी में तब्दील करने में अपनी भूमिका अदा करने से पीछे नही हट रहे है। पुलिस को चाहिए की इन तमाम बड़े बुक्कीयो की मोबाईल लोकेशन खंलाकर पूर्व की भांति एक बार फिर इनका जुलूस निकाले। जिससे शहर के युवाओ का भविष्य इस सट्टा रूपी जहर से बजाया जा सकता है। वरना ये सटोरिये यूं ही नव युवको का भविष्य सट्टा बेटिंग में दावं पर लगाते रहेंगे।

 

 

*

Post a Comment