✍️ - रूपेश शक्तावत

नीमच। उपनगर बघाना से कुछ ही दूरी पर ग्राम अरनिया स्थित पुलिस थाने के सामने गोदाम पर कृषि मंडी व्यापारी दीपक मोता का काला कारोबार संचालित होता है । कृषि उपज के व्यापार की आड़ लेकर अवैध भट्टियां संचालित करता है। दीपक मोता वैसे तो मूलतः धनिये का व्यापारी है, लेकिन उस धनिये का पूरा सच आज तक शायद किसी को मालूम नही है। दीपक मोता कृषि मंडी से निम्न स्तर का धनिया खरीदता है और फिर उस धनिये पर अपनी ऐसी कलाकारी दिखाता है की जिससे धनिये का हर एक दाना बोल्ड और ग्रीन बनकर बाजार में बिकने के लिए तैयार हो जाता है।

इस पूरे खेल को अंजाम तक पहुंचाने के लिए मंडी व्यापारी दीपक मोता निम्न स्तर की धनिये को उच्च क्वालिटी का बनाने के लिए उस पर कई प्रकार के हानिकारक केमिकलों का इस्तेमाल करता है ओर फिर उस उपज को भट्टियों के माध्यम से पका कर तैयार करता है। जबकि मोता की इस कलाकारी के बाद वह उपज इतनी हानिकारक बन जाती है कि मानव स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालते हुवे उन्हें सीधे अस्पतालों का रुख करवा देती है।

विभाग के लिये बना चुनोती

मंडी व्यापारी दीपक मोता को 2 नंबर का व्यापार करते हुए काफी अर्से गुजर चुके है, लेकिन अब तक संबंधित विभाग के अधिकारियो ने इसके गोदाम पर दस्तक नही दी है, जिससे इसके हौसले ओर भी बढ़ चुके है। खुले आम अवैध भट्टियों का संचालन कर रहा है। दीपक मोता खाद्य एवं औषधि विभाग के लिए चुनोती बना हुआ है, क्योंकि दीपक मोता इस 2 नम्बर के कारोबार में किंग बना हुआ है। रोजाना टनों से धनिया उपज पर हानिकारक पॉलिश चढ़ाने का गोरखधंधा संचालित करता है। ऐसे में नवागत खाद्य एवं औषधि अधिकारी मिश्रा जी  को इस ओर ध्यान देते हुवे दीपक मोता के काले कारोबार से पर्दा उठाकर छापामार कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

Post a Comment