✍️- रूपेश शक्तावत

नीमच । कनावटी में विदुश  ट्रेडर्स सोया तेल फैक्ट्री में गत रात्री को आग लगने से पूरे छेत्र में अफरा तफरी मच गई आप पास के रहवासी घबराहट में अपना घर छोड़कर सुरक्षित पहुँचे घण्टो की मश्क्कत के बाद आग पर काबू पाया गया गनीमत रही कि इस भीषण आग से कोई जन हानि नही हुई । यह अवैध फेक्ट्री रिहाइशी इलाके में बिना रोक टोक धड़ल्ले से चल रही थीं । आस पास के लोगों का कहना है कि इस फैक्ट्री में सोया तेल के नाम पाम ऑइल व घातक रसायन का मिलावट भी किया जा रहा था।

गौरतलब है कि खाद्य विभाग के लचर व मेहरबानी के फायदा नीमच मैं मिलावटखोर उठा रहे हैं। विभाग छोटो व्यवसाई पर कार्यवाही कर अपने कार्य को से इतिश्री कर लेता है । 
इन दिनों शहर में धनिया व अजवाइन मैं सल्फर  , सोया तेल में पाम ऑइल का उपयोग किया जा रहा है जानकारों के मुताबिक सरसों और सोया तेल में
  नकली तेल बनाने का एसेस का काफी मात्रा में उपयोग किया जा रहा है इस  नकली तेल बनाने के एसेंस का  रासायनिक नाम है एलिल र आइसोथायोसाइनेट है ।इस एसेस को किसी भी तेल में मिलाने पर कच्ची धानी के तेल जैसी खुशबू वह झाग देता है।

जानकारों के मुताबिक यह एसेस मानव शरीर के लिए काफी घातक है। लम्बे समय तक इसका सेवन करने से व्यक्ति की त्वचा पर झुर्रियां पड़ सकती है । साथ ही पाचन तंत्र पर भी इसका विपरित असर पड़ सकता है।
Next
This is the most recent post.
Previous
Older Post

Post a Comment